देशभर में नागरिकता अधिनियम बिल को लेकर लोग अपना विरोध दर्ज करा रहे है। इसी बीच राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के प्रमुख शरद पवार ने ट्वीट जारी कर कहा है कि नागरिकता अधिनियम बिल में केवल पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान के प्रवासियों को ही अनुमति क्यों दी गई है। पहले भी राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) नेता और महाराष्ट्र सरकार में जल संसाधन और क्षेत्रीय विकास मंत्री जयंत पाटिल ने नागरिकता अधिनियम पर बयान दिया था।

बता दें कि देशभर में CAB (सिटीजनशिप अमेंडमेंट बिल) पर बहस छिड़ी हुई है। इस बिल में पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश के नागरिकों को नागरिकता देने का जिक्र है। नए नागरिकता कानून के मुताबिक पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान के वैसे हिंदू, बौद्ध, जैन, पारसी और ईसाई समुदाय के लोगों को भारत की नागरिकता दी जाएगी, जिन्हें वहां धर्म के आधार पर प्रताड़ना सहनी पड़ी हो। नए कानून से मुसलमानों को अलग रखा गया है। इसी को लेकर सारा विवाद पनन रहा है।