वाराणसी। शराबबंदी के बाद बिहार के शराब प्रेमियों की तलब बनारस पूरी कर रहा है। यहां के शराब कारोबियों और धंधेबाजों के लिए यह चोखे मुनाफे का सौदा हो चुका है। वो पुलिस की नाक के नीचे बनारस में बनने वाली खुफिया दारू को बिहार भेज रहे हैं। दूसरे प्रदेश से तस्करी कर लायी जा रही शराब को यहां डम्प करते हुए मौका देखकर सीमा पार करा रहे हैं।
दर असल शराब की तस्करी का खेल रोहनिया थाना अंतर्गत वीरभान पुर में बने आईटीआई परिसर में स्थानीय पुलिस की संरक्षण में चल रहा है। यहां से एमपी, बिहार और उत्तर प्रदेश के विभिन्न जिलों में डिस्टिलरी कंपनी की तरह रोजाना हजारों लीटर शराब की आपूर्ति की जाती है। इस तस्करी में शामिल सफेदपोश शराब माफिया व पूर्व पेट्रोलियम कारोबारी संजीव अग्रवाल व तत्कालीन थाना प्रभारी शिवप्रकाश गुप्ता व चौकी प्रभारी बृजेश राय के विरुद्ध एफआईआर दर्ज करने के लिए वरिष्ठ अधिवक्ता कमलेश चन्द्र त्रिपाठी द्वारा दाखिल किये गए मामले में सीजेएम द्वारा एसएसपी वाराणसी को आदेशित किया गया है कि एसएसपी वाराणसी सीओ की टीम गठित करके सम्पूर्ण मामले की जांच कराएं और उसकी आख्या व कार्यवाही दिनांक 20 अप्रैल तक न्यायालय में पेश करें।