हैदराबाद गैंगरेप आरोपियों के एनकाउंटर के बाद अब सबकी नजरें निर्भया मामले पर हैं। 16 दिसंबर को इस घटनाक्रम के सात साल पूरे हो जाएंगे। इस मामले के एक दोषी विनय शर्मा की दया याचिका की फाइल गृह मंत्रालय ने राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद को भेज दी है। राष्‍ट्रपति की तरफ से भी एक ऐसी टिप्‍पणी आई जिसके बाद जल्‍द ही इस मामले के भी किसी नतीजे पर पहुंचने की संभावनाएं नजर आने लगी हैं।

राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद शुक्रवार को राजस्‍थान के सिरोही में एक कार्यक्रम में मौजूद थे। यहां पर उन्‍होंने कहा, ‘महिला सुरक्षा आज एक गंभीर विषय है। पोस्‍को कानून के तहत रेप के दोषी करार दिए गए आरोपियों को दया याचिका फाइल करने का कोई अधिकार नहीं है। संसद को दया याचिका का आकलन करने की जरूरत है।’ आपको बता दें कि अगर निर्भया के दोषियों की दया याचिका को खारिज किया जाता है तो साल 2004 के बाद ऐसा मौका देश में होगा जब रेप के दोषियों को फांसी की सजा हो सकेगी।