बिहार:पटना मुजफ्फरपुर बालिका गृह यौनशोषण कांड पर आखिरकार समाज कल्याण मंत्री मंजू वर्मा ने आज अपने पद से इस्तीफा दे दिया। बालिका गृह यौनशोषण मामले में अपना और अपने पति चंद्रेश्वर वर्मा का नाम आने के बाद मंजू वर्मा ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मिलकर उन्हें अपना इस्तीफा सौंप दिया है।
मैंने स्वेच्छा से दिया इस्तीफा  मंजू वर्मा
अपना इस्तीफा मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को सौंपने के बाद मंजू वर्मा ने कहा कि मैंने स्वेच्छा से अपना इस्तीफा दिया है। मैं पहले भी कह चुकी हूं कि मैं बिहार का राजनीतिक चेहरा हूं, मैं जिस पद पर हूं उसे लेकर बातचीत होती थी। ब्रजेश ठाकुर की मेरे पति से भी बात होती थी। लेकिन ये कौन जानता था कि वह बालिका गृह में क्या करता था?
उन्होंने कहा कि जब ये बात कल मीडिया में आई कि ब्रजेश ठाकुर से मेरे पति की जनवरी से मई तक 17 बार बात हुई है तो इसे तूल दिया जा रहा था। इसे लेकर ही मैंने ये ये डिसीजन लिया कि मुझे इस्तीफा दे देना चाहिए और मैंने इस्तीफा मुख्यमंत्री जी को सौंप दिया।

मंत्री ने कहा कि मैं पटना हाईकोर्ट और सीबीआइ से ये मांग करती हूं कि ब्रजेश ठाकुर के साथ इस मामले में कौन-कौन राजनेता शामिल हैं और किन अधिकारियो से उसकी बात होती थी? सबका कॉल डिटेल सीबीआइ को निकालना चाहिए और पटना हाईकोर्ट को भी सीडीआर को देखना चाहिए कि ब्रजेश ठाकुर के किस-किस से संबंध थे?

34 बच्चियों का हुआ था यौन शोषण

बता दें कि मुजफ्फरपुर स्थित साहू रोड स्थित बालिका गृह में 42 बच्चियों में से  34 बच्चियों के साथ दुष्कर्म की घटना का पर्दाफाश होने के बाद हंगामा मचा है। राज्य सरकार की अनुशंसा पर इस घटना की जांच सीबीआइ कर रही है और इसके जांच की मॉनिटरिंग पटना हाईकोर्ट कर रही है। वहीं, इस मामले पर सुप्रीम कोर्ट ने भी स्वतः संज्ञान लिया और इस मामले की जांच रिपोर्ट मांगी है। मुंबई की टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंस की ‘कोशिश’ टीम की सोशल ऑडिट रिपोर्ट में इस मामले का खुलासा हुआ था।