हरियाणा के बल्लभगढ़ में कॉलेज से निकल रही स्टूडेंट की सोमवार को सरेआम गोली मारकर हत्या के मामले में अब नया मोड़ आ गया है। परिजनों का सीधा-सीधा आरोप लगाया है कि हत्या का आरोपी तौसीफ जबरन लड़की का धर्म परिवर्तन करवाना चाह रहा था। ऐसा करने में असफल रहने के बाद उसने पहले अपहरण करने का प्रयास किया और नाकाम रहने पर लड़की की गोली मारकर हत्या कर दी गई है।

इस मामले में एक नया खुलासा हुआ है कि बीकॉम अंतिम वर्ष की छात्रा निकिता तोमर के साथ अपहरण की इसी तरह की वारदात को आरोपी साल 2018 में भी अंजाम दे चुका था। दो साल पहले थाना शहर में परिजनों ने अपहरण का मामला भी दर्ज कराया था, चूंकि मामला लड़की से जुड़ा था परिजनों ने बात आगे नहीं बढ़ाई। पुलिस ने दो घंटे बाद ही निकिता को सकुशल छुड़ा लिया था। इसके बाद पुलिस ने भी कोई कार्रवाई नहीं की और मामला रफा-दफा हो गया। अगर समय पर कार्रवाई हो जाती तो आज निकिता जिंदा होती।

मृतका के पिता मूलचंद तोमर ने बताया कि अगर दो साल पहले ही बात को गंभीरता से ले लेते तो आज उनकी बेटी जिंदा होती। मूलचंद एक निजी कंपनी में नौकरी करते हैं। सोमवार को निकिता के साथ पढ़ने वाली एक लड़की ने उन्हें फोन करके जानकारी दी कि उनकी बेटी को गोली मार दी है, जल्दी आ जाओ। उन्होंने बताया कि कॉलेज आकर पता लगा निकिता अब नहीं रही। आरोपी तौसीफ बारहवीं कक्षा में निकिता के साथ ही पढ़ता था। मूलरूप से रोजका मेव निवासी तौसीफ स्कूल के दिनों से ही युवती को परेशान करता था।