बिहार के बहुचर्चित मधुबनी कांड को लेकर सूबे की सियासत में गमार्हट रोज बढ़ती जा रही है। पूरे मामले को लेकर आक्रमक तेजस्वी पर आज जेडीयू नेताओं ने पलटवार किया और उन्हें पुराना इतिहास याद करने की नसीहत दी। जेडीयू विधानपार्षद और मुख्य प्रवक्ता संजय सिंह ने कहा कि सरकार पर आरोप लगाने वाले लोग जरा पुराने इतिहास को भी याद कर लें। लालू-राबड़ी के शासनकाल में 118 नरसंहार हुआ उस वक्त अपराध करने के बाद अपराधियों का पनाह स्थल एक अणे मार्ग स्थित मुख्यमंत्री आवास होता था। जहां अपराधियों को बचाया जाता था लेकिन मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के राज में अपराधी सलाखों के पीछे होते है।

नीतीश कुमार के शासन में अपराधी यदि पालात में भी रहेगा तब उसे ढुंढ़ निकाला जाएगा। मधुबनी हत्याकांड में भी यही हुआ मुख्य आरोपी प्रवीण झा सहित पांच अपराधियों को खोज निकाला गया जो आज सलाखों के पीछे है।जेडीयू नेता नीरज कुमार ने बताया कि इस मामले में अब तक 19 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। आरोपियों की कुर्की जब्ती की कार्रवाई भी की गयी है। वही एसएचओ को भी सस्पेंड किया गया है। आग भी यह कार्रवाई जारी रहेगी। नीरज कुमार ने आरजेडी का नामांकरण करते हुए कहा कि आरजेडी का नया नाम बेऊर राजद या तिहाड़ राजद होनी चाहिए।