फ्रांस की वायुसेना ने भारत जैसी एयरस्ट्राइक कर अफ्रीकी देश माली में सक्रिय अलकायदा के आतंकवादियों को मौत की नींद सुला दिया है। फ्रांसीसी वायुसेना के मिराज फाइटर जेट और ड्रोन विमानों ने मध्यद माली में मिसाइलें दागीं जिससे कम से कम 50 इस्लािमिक आतंकवादियों की मौत हो गई है। बताया जा रहा है कि फ्रांस ने यह हमला बुर्कीन फासो और नाइजर की सीमा के पास किया है।

फ्रांस की रक्षा मंत्री फ्लोरेंस पार्ले ने माली की संक्रमणकालीन सरकार से मुलाकात के बाद कहा कि 30 अक्टूीबर को माली में फ्रेंच एयरफोर्स ने एक आक्रामक कार्रवाई की जिसमें 50 जिहादी मारे गए। इस दौरान बड़ी संख्याम में हथियार भी बरामद किए गए। इस इलाके में माली की सरकार इस्लाममिक आतंकवादियों का सामना कर रही है। फ्रांसीसी रक्षामंत्री ने कहा कि 30 मोटरसाइकिलें भी हवाई हमले में नष्टा हो गई हैं।

सेना के प्रवक्ता बार्बरी ने यह भी बताया कि माली में आईएस आतंकियों की विंग ‘इस्लामिक स्टेट इन ग्रेटर सहारा’ के खिलाफ भी एक ऑपरेशन चलाया जा रहा है। इसमें 3000 सैनिकों को लगाया गया है। यह ऑपरेशन करीब एक महीने पहले शुरू किया गया था। इसके नतीजे आने वाले दिनों में बताए जाएंगे। धार्मिक टकराव के कारण दो हफ्ते के अंदर हुए दो हमलों ने फ्रांस को हिला दिया है। पहले पैगंबर मोहम्मद का कार्टून दिखाने वाले टीचर का सिर उन्हीं के छात्र ने कलम कर दिया था।

इसके बाद नीस में चर्च के बाहर चाकू मारकर तीन लोगों की हत्या कर दी गई। शनिवार को भी एक अज्ञात बंदूकधारी ने चर्च में पादरी को गोली मार दी थी। इस मामले में एक संदिग्ध को गिरफ्तार किया गया है। लगातार हो रहे हमलों के कारण सरकार ने फ्रांस में तैनात सैनिकों की संख्या दोगुनी कर दी है। मैक्रों ने इन घटनाओं को इस्लामिक आतंकवाद करार दिया था।