प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज (मंगलवार) कोरोना से ज्यादा प्रभावित राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक की। बैठक में पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना को लेकर ढिलाई कतई नहीं करनी है। हम सभी को पहले से भी अधिक जागरूक रहने की जरुरत है। हमें ट्रांसमिशन को कम करने के लिए आने प्रयासों को और गति देने की जरूरत है। हम एक बड़ी आपदा के सागर से किनारे की ओर बढ़ रहे हैं, कहीं ऐसा ना हो कि अब ढिलाई से ये हो जाए कि फिर बीमारी बढ़ जाए। मोदी ने इस दौरान कहा कि कहीं ‘हमारी कश्ती वहां डूबी जहां पानी कम था’ वाली बात ना हो जाए।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज (मंगलवार) कोरोना से ज्यादा प्रभावित राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक की। बैठक में पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना को लेकर ढिलाई कतई नहीं करनी है। हम सभी को पहले से भी अधिक जागरूक रहने की जरुरत है। हमें ट्रांसमिशन को कम करने के लिए आने प्रयासों को और गति देने की जरूरत है। हम एक बड़ी आपदा के सागर से किनारे की ओर बढ़ रहे हैं, कहीं ऐसा ना हो कि अब ढिलाई से ये हो जाए कि फिर बीमारी बढ़ जाए। मोदी ने इस दौरान कहा कि कहीं ‘हमारी कश्ती वहां डूबी जहां पानी कम था’ वाली बात ना हो जाए।

प्रधानमंत्री ने कहा, आज मृत्यु दर और रिकवरी दर में भारत दूसरे देशों के मुकाबले बहुत संभली हुई स्थिति में हैं। हम सभी के अथक प्रयासों से देश में टेस्टिंग से लेकर ट्रीटमेंट का एक बहुत बड़ा नेटवर्क काम कर रहा है। पीएम केयर्स फंड की ओर से ऑक्सीजन और वेंटीलेटर उपलब्ध करवाने पर भी जोर है। कोरोना के खिलाफ लड़ाई में शुरू से ही एक-एक देशवासी का जीवन बचाना हमारी प्राथमिकता रही है।