कल बीजेपी की तरफ से लोजपा सुप्रीमो चिराग पासवान को एनडीए की बैठक में शामिल होने का न्योता भेजा गया था इसको लेकर एक चिट्ठी सामने आई थी. चिट्ठी के सामने आते ही बिहार की राजनीति का पारा चढ़ गया था। पूर्व सीएम जीतन राम मांझी ने चिराग पासवान को बैठक में बुलाने का विरोध किया था।

अब जेडीयू ने भी इस पूरे मामले पर अपनी चुप्पी तोड़ी है।जेडीयू नेता और केसी त्यागी ने कहा कि चिराग पासवान की पार्टी को एनडीए का हिस्सा नहीं मानते हैं. एलजेपी ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के विरोध में बिहार में एनडीए से अलग होकर अकेले विधानसभा चुनाव लड़ा था. एलजेपी के कारण बिहार में एनडीए का काफी नुकसान हुआ है.