बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री डॉक्टर जगन्नाथ मिश्र के निधन की खबर के बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शोक प्रकट किया है। सीएम ने जगन्नाथ मिश्र के निधन को बिहार की राजनीति के लिए बड़ा क्षति बताया है। वहीं उन्होंने बिहार में तीन दिनों के राजकीय शोक का एलान किया है।

उन्होंने कहा है कि श्री मिश्रा ने अपने राजनीतिक सफर के दौरान बिहार के विकास के लिए काफी कुछ किया था। बिहार उनके किए गए कामो को हमेशा याद रखेगा।

पूर्व मुख्यमंत्री डॉक्टर जगन्नाथ मिश्रा के निधन पर बिहार एनसीपी के प्रदेश अध्यक्ष व पूर्व शिक्षामंत्री नवल किशोर शाही ने गहरी संवेदना प्रकट की है। श्री शाही ने कहा कि बिहार एक प्रमुख शिक्षाविद, राजनयिक व अर्थशास्त्री खो दिया है। जिसकी भरपाई फिलहाल संभव नहीं है। डॉक्टर साहब के निधन पर पार्टी कार्यालय में श्री शाही के नेतृत्व में एक शोकसभा का भी आयोजन किया गया।इस मौके पर चंद्रशेखर सिंह, जितेंद्र शुक्ला, सीताराम सिंह, सुबोध प्रसाद समेत कई नेता और कार्यकर्ता मौजूद थे।

वहीं कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल देव प्रसाद यादव ने उनके निधन को अपनी व्यक्तिगत क्षति बताया है। उन्होंने कहा कि उनके जाने के बाद राजनीतिक जगत के साथ-साथ सामाजिक और शैक्षणिक जगत को अपूरणीय क्षति हुई है।

समाजवादी पार्टी के युवा नेता सुशील यादव ने कहा कि उनके निधन से बिहार ने एक कुशल प्रशासक और सामाजिक चिंतक को खो दिया है। वो सदा समाज में दबे -कुचले और अल्पसंख्यक के हक हकूक की लड़ाई लड़ते रहे।

बीजेपी के यूवा नेता पंकज कुमार ने भी पूर्व मुख्यमंत्री डॉक्टर जगन्नाथ मिश्र के निधन पर गहरा शोक प्रकट किया है। उन्होंने कहा कि उनके निधने से बिहार ही नहीं देश को अपूरणीय क्षति हुई है।

भोजपुरी फिल्म अभिनेता और गायक राज रंजीत ने भी पूर्व मुख्यमंत्री डॉक्टर जगन्नाथ मिश्र के निधन पर गहरा शोक प्रकट किया है। राज रंजीत ने कहा कि डॉक्टर साहब हमलोग के अभिभावक थे जब भी मिलता था वो अपनो सा प्यार देते थे। उनके साथ बातों का सिलसिला जब चलता था तो कला जगत से लेकर अर्थव्यवस्था तक की भी चर्चा होती थी। उनका जाना मेरे लिए बेहद दु:खद है।