क्राइम, करप्शन और कॅम्यूनिलिजम से समझौता नहीं करने के दावे करने वाले बिहार के सीएम नीतीश कुमार के लिए एनसीआरबी की एक रिपोर्ट निराश करने वाली है। रिपोर्ट के मुताबिक बिहार दंगो के मामले में नंबर वन राज्य बन गया है जबकि अपराध के मामले में यूपी नंबर वन है। 2018 के इन आंकड़ों की माने तो यूपी में क्राइम कम हुआ और राज्य पहले पायदान से फिसल कर दूसरे नंबर पर आ गया. वहीं बिहार में सबसे ज्यादा रेप की घटनाएं दर्ज हुईं हैं. रिपोर्ट के अनुसार, 2018 में उत्तर प्रदेश में आईपीसी के तहत अपराध के 3,42,355 मामले दर्ज हुए. वहीं महाराष्ट्र में यह आकंड़ा 3,46,291 है. इसके साथ ही महाराष्ट्र अपराध के मामले में नंबर एक पर है.वहीं अगर बात 2017 की करें तो एनसीआरबी के आंकड़ों के अनुसार 2017 में यूपी में अपराध के 3,10,084 मामले दर्ज हुए थे जोकि महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश और केरल से भी अधिक था.

रिपोर्ट के मुताबिक, 2018 में यूपी में सबसे अधिक 4018 हत्याएं हुई, दूसरे नंबर पर बिहार में 2934 हत्याएं हुईं, और तीसरे नंबर पर महाराष्ट्र में 2199 हत्याएं हुई. वहीं रेप के मामलों में 2018 में मध्यप्रदेश नंबर वन रहा और 5433 रेप के मामले दर्ज हुए, दूसरे नंबर पर राजस्थान में 4335 मामले दर्ज हुए, तीसरे नंबर पर उत्तर प्रदेश में 3946 रेप के मामले दर्ज हुए.रिपोर्ट के मुताबिक दंगों में बिहार 10,276 मामलों के साथ नंबर वन पर रहा. महाराष्ट्र 9473 मामलों के साथ नंबर दो पर रहा और यूपी 8908 मामलों के साथ तीसरे नंबर पर रहा. वहीं 2018 में बिहार में 167, हरियाणा 45, मध्यप्रदेश में 42 और गुजरात में 39 सांप्रदायिक दंगे हुए.