नई दिल्ली। कर्नाटक मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट में आज सुनवाई होगी। पिछली सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट ने कर्नाटक में विधायकों के इस्तीफे के मामले में यथास्थिति बनाए रखने का आदेश दिया है। कोर्ट ने कहा कि मामले की अगली सुनवाई तक न इस्तीफे पर फैसला लिया जाए, न विधायकों को सदस्यता के अयोग्य ठहराया जाए। गुरुवार 18 जुलाई को सीएम कुमारस्वामी कर्नाटक विधानसभा में अविश्वास प्रस्ताव का सामना करेंगे। अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा के बाद वोटिंग होगी।
कांग्रेस नेता और पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने कहा कि कर्नाटक विधानसभा में 18 जुलाई को फ्लोर टेस्ट होगा। वहीं कर्नाटक सरकार के मंत्री डीके शिवकुमार ने कहा कि हमें फ्लोर टेस्ट को लेकर पूरा भरोसा है। उन्होंने कहा कि हम जीतेंगे और सभी बागी विधायक हमारे साथ आएंगे। इससे ठीक पहले मुंबई के होटल में जमे बागी विधायकों ने पुलिस से सुरक्षा मांगी और कहा कि उन्हें कांग्रेस के नेताओं से खतरा है। उन्होंने कांग्रेस नेताओं से मिलने से इनकार भी किया।
येदियुरप्पा ने मीडिया से कहा, ‘मुझे पूरा भरोसा है कि अगले तीन-चार दिन में भाजपा सरकार अस्तित्व में आ जाएगी। भाजपा कर्नाटक में श्रेष्ठ प्रशासन देगी’ येदियुरप्पा ने दावा किया कि कुमार स्वामी गठबंधन सरकार को बचाने में नाकाम रहेंगे। पिछले साल ऐसी ही परिस्थितियों में इस्तीफा देने वाले येदियुरप्पा ने कहा, ‘कुमारस्वामी मुख्यमंत्री के पद पर नहीं रह पाएंगे। वह भी जानते हैं मुझे लगता है कि वह एक अच्छे भाषण के बाद इस्तीफा दे देंगे’

कर्नाटक में 224 सदस्यीय विधानसभा में 105 सीटें हासिल कर सबसे बड़े दल के तौर पर उभरी भाजपा की तरफ से विश्वास मत के दौरान जरूरी आंकड़े नहीं जुटा पाने के बाद येदियुरप्पा को मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देना पड़ा था। अगर 16 विधायकों का इस्तीफा स्वीकार हो जाता है तो गठबंधन का आंकड़ा मौजूदा 116 से घटकर 100 रह जाएगा। गौरतलब है कि कर्नाटक में ये सियासी ड्रामा 6 जुलाई को शुरू हुआ जब कांग्रेस के दर्जन भर विधायकों ने इस्तीफा दे दिया।