कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन ने सरकार की नींद उड़ा दी है। वायरस को रोकने के लिए अब राज्य की सीमा पर चौकसी बढ़ाई जा रही है। गृह मंत्रालय के आदेश के बाद अब बिहार से लगने वाली सभी सीमाओं पर कोरोना जांच की व्यवस्था की जा रही है। इसके लिए संबंधित सिविल सर्जन को आदेश दिया गया है। साथ ही ट्रेन और फ्लाइट के साथ अन्य वाहनों से आने वालों की जांच को लेकर भी सख्ती बढ़ाई जा रही है।
गृह मंत्रालय ने दुकानों और प्रतिष्ठानों में सभी के लिए हमेशा मास्क पहनना अनिवार्य कर दिया है। काउंटर पर दुकानदार द्वारा कर्मियों एवं अन्य आगंतुकों के इस्तेमाल के लिए सैनिटाइजर की व्यवस्था करने का निर्देश दिया है। दुकानों और प्रतिष्ठानों में केवल कोविड टीका लेने वालों को ही काम करने की अनुमति दी जाएगी।
बिना मास्क वालों की दुकान में एंट्री बंद करें
• दुकानदार बिना मास्क वालों की एंट्री बंद कर दें।
• दुकान के बाहर सैनिटाइजर की व्यवस्था करें।
• बड़ी दुकानों और शोरूम में गार्ड की व्यवस्था करें, जो मास्क लगाकर ही प्रवेश कराए।
• हाथों को सैनिटाइज करें।
• दुकान में भीड़ नहीं लगाएं। सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें।
बिहार में बीते 24 घंटे में कोरोना के 5 नए मामले आए हैं। इनमें पटना में 2 और समस्तीपुर में 2 के साथ भागलपुर में एक मामला सामने आया है। अब तक बिहार में कुल 7,26,230 लोगों को कोरोना संक्रमण हुआ है। इनमें 7,16,534 लोग ठीक हुए हैं, जबकि 9,664 लोगों की जान गई है। बिहार में अभी भी कोरोना के एक्टिव मामलों की संख्या 31 है, जिनमें सबसे अधिक पटना में 18 मामले हैं।
पटना में गुरुवार को फिर एक संक्रमित की कोरोना से मौत हो गई। बताया जा रहा है कि नेहरु नगर के रहने वाले 80 साल के विजय नारायण वर्मा कोरोना संक्रमित हो गए थे। जांच के बाद कोरोना की पुष्टि हुई तो उन्हें पटना एम्स में भर्ती कराया गया था। इलाज के दौरान उनकी हालत में सुधार नहीं हो रही थी। कोरोना संक्रमण के कारण शरीर के अंगों पर प्रभाव पड़ रहा था। इस कारण से दिन-प्रतिदिन उनकी हालत खराब होती जा रही थी। गुरुवार को उनकी हालत काफी बिगड़ गई, जिससे मौत हो गई।
हाल में विदेश से पटना लौटे 165 लोगों के सैंपल में से 119 की रिपोर्ट निगेटिव मिली है। अन्य 46 लोगों की रिपोर्ट का इंतजार है। पटना के 560 लोग इस लिस्ट में हैं, जिनमें से 230 से स्वास्थ्य विभाग की टीम ने संपर्क किया है। 165 सैंपल कलेक्ट किए गए हैं। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के अनुसार विदेश से लौटे लोगों में ओमिक्रॉन वैरिएंट की तलाश के लिए तेजी से सैंपल कलेक्ट करने का काम चल रहा है।