विवादित इस्लामिक प्रचारक जाकिर नाइक ने राष्ट्रीय जांच एजेंसी के उसके खिलाफ आतंकवाद के आरोपों पर कहा है एजेंसी बिना किसी ठोस सबूत के पिछेले तीन साल से ज्यादा समय से दावे करता रहा है। जाकिर नाइक ने कहा, ‘यह दुर्भाग्यपूर्ण है। मेरे खिलाफ जांच को तीन साल से ज्यादा वक्त हो गया। एजेंसी बिना किसी ठोस सबूत के जो उसकी बात का समर्थन करते हों, मुझे आतंकवाद से जोड़ कर लगातार दावे करता रहा है।’ माना जा रहा है कि नाइक का यह बयान हाल में ATS के प्रमुखों की एक बैठक के दौरान आये उस दावे पर आया है जिसमें भारत में पकड़े गये कई संदिग्धों में से ज्यादातर के जाकिर नाइक की बातों से प्रभावित होने की बात कही गई थी।

रिपोर्ट्स के अनुसार जाकिर नाइक फिलहाल भारत में खुद पर शिकंजा कसने के बाद भागकर मलेशिया में है। भारत आने से इनकार करते हुए जाकिर नाईक ने कहा कि अगर एनआईए के आईजी उससे पूछताछ करना चाहते हैं तो वे मलेशिया आएं, वो यहां पर अपनी सफाई रखेगा। जाकिर नाईक ने कहा कि ये एनआईए को उसका खुला निमंत्रण है। एनआईए के एक शीर्ष अधिकारी आलोक मित्तल ने बताया है कि देश में आतंकी संगठन IS से कनेक्शन के शक में अधिकतम 127 संदिग्धों को सुरक्षा एजेंसियों द्वारा पकड़ा गया है।