नागरिकता संशोधन कानून, एनपीआर और एनआरसी के खिलाफ दिल्ली के शाहीन बाग में मुस्लिम महिलाएं 15 दिसंबर से धरने पर बैठी हैं। इन महिलाओं की मांग है कि मोदी सरकार नागरिकता संशोधन कानून को वापस ले और आश्वासन दे कि एनआरसी कभी नहीं आएगा। प्रदर्शनकारी महिलाएं पीएम मोदी और गृहमंत्री अमित शाह से शाहीन बाग आने की और उनसे बात करने की अपील कर चुकी हैं।

इस बीच बड़ी खबर आ रही है कि शाहीन बाग प्रदर्शनकारियों का एक प्रतिनिधिमंडल रविवार को गृहमंत्री अमित शाह से मुलाकात करेगा।हाल ही में एक कार्यक्रम के दौरान अमित शाह ने कहा था कि सरकार नागरिकता संशोधन कानून पर किसी से भी चर्चा के लिए तैयार है। शाह ने कहा था, श्मैं किसी को तीन दिन के भीतर समय दूंगा जो मेरे साथ नागरिकता संशोधन अधिनियम से संबंधित मुद्दों पर चर्चा करना चाहता है। हकीकत यह है कि लोग मिलना नहीं चाहते हैं। सिर्फ सियासत हो रही है और बिना किसी आधार के प्रदर्शन किए जा रहे हैं।