कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया को डरा रखा है। हजारों लोगों की जान इस वायरस ने ली है और लाखों लोग आज भी इससे लड़ रहे हैं। भारत इसकी वजह से लाॅकडाउन मोड में हैं। वायरस कितना खतरनाक है उसका अंदाजा अलग अलग खबरों से भी लगाया जा सकता है। पटना में एक नर्स इस वायरस की चपेट में आयी थी। उसने बताया है कि उसने संक्रमित मरीज का बीपी जांच किया था जिसके बाद वो भी इस वायरस की चपेट में आ गयी।

कोरोना को मात देने वाली पटना के शरणम अस्पताल की नर्स पिंकी कुमारी ने बताया कि पॉजिटिव सोचेंगे तो रिपोर्ट निगेटिव आ जाएगी। कोरोना को मात देकर घर लौट चुकी पिंकी आपबीती बताते हुए कहती है कि जरूरत है सतर्क रहने की।पिंकी ने जैसा बताया कि 20 मार्च को मुंगेर से आए कोरोना पॉजिटिव के वक्त जब आईसीयू में भर्ती था तो मैंने उसका ब्लड प्रेशर चेक किया था और सिर्फ 5 मिनट तक उसके पास रही थी।

मुझे पता नहीं था कि वह कोरोना पॉजिटिव मरीज है। 22 मार्च को जैसे ही खबर आई कि उक्त युवक कोरोना पॉजिटिव था तो एहतियात बरतते हुए अस्पताल में काम करने वाले 12 लोगों ने 24 मार्च को कोरोना टेस्ट करवाए उसमें मैं भी थी लेकिन 26 मार्च को आये रिपोर्ट में मुझे निगेटिव पाया गया। इसके बाद 28 मार्च को पुनःकोरोना चेक किया गया तो रिपोर्ट पॉजिटिव आया पर मैंने हिम्मत नहीं हारी ।28 मार्च की रात कि मुझे एनएमसीएच में भर्ती करवाया गया। भगवान का शुक्र है कि मेरी मां, बहन और दोनों भाई का सैंपल नेगेटिव आया है।