बिहार के पाॅलिटिकल सीन से लगातार गायब रहने वाले तेजस्वी यादव के राजनीतिक अज्ञातवास को लेकर न सिर्फ उनके सियासी दुश्मन उन पर हमलावर रहे हैं।

बल्कि महागठबंधन के सहयोगी दलों के नेता और खुद उनकी पार्टी के नेताओं ने भी यदा कदा तेजस्वी के रवैये पर सवाल उठाये हैं।

अब जब यह खबर सामने आ रही है कि तेजस्वी एक बार फिर वापसी करने वाले हैं तो उनकी वापसी को लेकर भी बिहार की राजनीति का पारा चढ़ गया है।

बिहार सरकार में मंत्री और जेडीयू के नेता जय कुमार सिंह ने कहा कि तेजस्वी यादव विधानसभा सत्र में चर्चा के दौरान भी सदन से गायब रहे.

मुख्यमंत्री की बुलायी गई बैठक में भी नहीं पहुंचे थे. यह दिखाता है कि राजनीति में उनकी कोई रुचि नहीं है.वे अपनी जिम्मेदारी का निर्वाह नहीं कर रहे हैं. जेडीयू नेता ने कहा कि आरजेडी की साख गिर रही है.

उनके साथ जो सहयोगी हैं उनकी भी साख गिर रही हैं, इसलिए सहयोगी अपना रुख़ अलग अपना रहे हैं. वहीं, बीजेपी नेता नितिन नवीन ने कहा कि तेजस्वी में संघर्ष करने का मादा नहीं है.

उन्होंने राजनीति के लिहाज से इमेच्योर बिहेवियर किया है. अगर कोई व्यक्तिगत कारण है तो पद से हट कर दूसरे को मौका दे दें.