New Delhi: देश में बेरोजगारी का मुद्दा उठाकर केन्द्र सरकार को घेरने वाली कांग्रेस से जुड़े एक चैनल ने अपने 150 पत्रकारों को सड़क पर ला दिया है। दिल्ली में बहादुर शाह जफर मार्ग पर स्थित स्वराज एक्सप्रेस न्यूज चैनल को अचानक से बंद करने का मंगलवार को ऐलान कर दिया गया। चैनल के सीईओ गुरदीप सिंह सप्पल ने सभी कर्मचारियों को संबोधित किया। इस दौरान भोपाल से पहुंची चैनल की मैनेजिंग एडिटर अमृता राय भी मौजूद रहीं, जो कांग्रेस की सीनियर लीडर दिग्विजय सिंह की पत्नी हैं। बिना कोई वक्त दिए गुरदीप सिंह सप्पल ने कहा कि अब हम अपना सफर आगे नहीं बढ़ा सकते।

बता दें कि लोगों की जुलाई और अगस्त की सैलरी नहीं आई है, इसके अलावा कुछ और देने की बात भी नहीं की गई है। गुरदीप सप्पल ने तो यहां तक कह दिया कि इस मामले में कोर्ट में भी कुछ नहीं हो सकता।बता दें कि 7 सितंबर को एक हफ्ते का वक्त लेकर काम बंद किया गया था। सभी को सोमवार यानी 14 सितंबर को दफ्तर पहुंचना था, लेकिन अचानक से सबको सूचना दी जाती है कि 15 सितंबर को मीटिंग है। इससे पहले ‘द प्रिंट’ अखबार में पूरी योजना के साथ एक खबर भी छपवाई गई, जिसमें खुद को बचाते हुए और फाइनेंसर और लाइसेंस के मालिक को जिम्मेदार ठहराया गया। ये कहा गया कि हम तो अच्छी पत्रकारिता कर रहे थे, जो लोगों को अच्छा नहीं लगा।

मीटिंग में इस बात का जिक्र भी किया गया कि बाहर खबर लीक होने से एक फाइनेंसर भाग गया, लेकिन ऐसे तर्क गले से नीचे नहीं उतर रहे हैं। चैनल को इस तरह की समस्या आ रही है, इसकी मैनेजमेंट को जानकारी ही थी, अचानक से चैनल ऑफ एयर हो गया, ये कैसे संभव है।

कुछ तो कम्युनिकेशन हुआ होगा। बता दें कि ये चैनल बहुत पहले बंद हो गया होता,जब लॉकडाउन की शुरुआत हुई थी, लेकिन इस चैनल के कर्मचारियों ने जान हथेली पर लेकर काम किया। रोजाना करीब 9 घंटे का कंटेंट देते रहे। अब सवाल उठता है कि आखिर पत्रकार कहां जाए। देखना प्रधानमंत्री महोदय को भी चाहिए। खबरें ये भी है कि बीजेपी इस मुद्दे को उठाकर कांग्रेस सांसद दिग्विजय सिंह समेत पूरी पार्टी को घेरेगी।