नेशनल मेडिकल कमीशन बिल के विरोध में गुरुवार को डॉक्टरों की हड़ताल से सरकारी अस्पतालों की सेवाएं बुरी तरह प्रभावित रहीं। बिल का विरोध कर रहे डॉक्टरों ने अपनी हड़ताल को एक और दिन के लिए आगे बढ़ा दिया है।

वहीं डॉक्टरों की इस हड़ताल को अब एम्स दिल्ली और एम्स पटना का भी समर्थन मिल गया है। बिल के विरोध में एम्स दिल्ली और पटना ने शुक्रवार को हड़ताल में शामिल होने का ऐलान कर दिया है।हड़ताल के चलते गुरुवार को दिल्ली समेत देश के कई हिस्सों में मरीजों का बुरा हाल रहा।

एम्स, सफदरजंग, राम मनोहर लोहिया, लोकनायक जैसे राजधानी के प्रमुख अस्पतालों में ओपीडी से लेकर वार्ड की सेवाएं और इमरजेंसी प्रभावित रही। केवल दिल्ली में ही करीब 80 हजार मरीजों का इलाज प्रभावित हुआ।

इस बीच गुरुवार को नेशनल मेडिकल कमीशन विधेयक विपक्ष के विरोध के बीच राज्यसभा में भी पास हो गया।गुरुवार को एम्स के रेजिडेंट डॉक्टर ने कहा कि हमारी हड़ताल एनएमसी बिल के कुछ प्रावधानों के खिलाफ है.