सेवा में

चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया

नई दिल्ली

महाशय,

केन्द्र की सरकार पूर्ण बहुमत के खुमार में है।प.बंगाल की सरकार बेलगाम है।बिहार कि सरकार विशेष राज्य की नूरा कुश्ती में व्यस्त है।

और इन सबके बीच देश का भविष्य एक-एक कर दम तोड़ रहा है। जहां तक धरती के भगवान कहे जाने वाले डॉक्टर साहब का सवाल है तो, वो तो माननीय मुख्यमंत्री ममता जी से लड़कर पूरी स्वास्थ्य सेवा,सिस्टम और सरकार को ठेंगा दिखा रहे हैं।

बिहार के मुजफ्फरपुर में बच्चों की मौत का आंकडा सैंकड़ा पार कर गया है। लू से दर्जनों मौत हो चुकी है ऐसे में डॉक्टरों की हड़ताल, स्थिति को और भी चिंताजनक बना देती है। सवाल ये है कि क्या सरकार को नहीं चाहिए कि आर्मी के डॉक्टरों की सेवा ले।

संक्षेप में श्रीमान को बता दें कि कोलकाता के एनआरएस मेडिकल कॉलेज में दो डॉक्टरों के साथ मारपीट के बाद देश भर में डॉक्टर हड़ताल पर हैं। आईएमए(इंडियन मेडिकल कांउसिल) दिल्ली की कॉल पर डॉक्टरों ने हड़ताल किया है।

श्रीमान से आग्रह है कि आप बिहार सरकार, प.बंगाल सरकार, केंद्र सरकार और आईएमए को तत्काल प्रभाव से इनलोगों को कोर्ट में तलब करें और पुछेंं कि क्या यही आपलोगों का दायित्व है जनता और देश के प्रति। सर इनलोगों को पहले हटायें।साथ ही आर्मी के स्वास्थ्य सेवा को यहां बहाल करवायें।

साख सिर्फ सिस्टम और सरकार की दाव पर नहीं लगी हुई है। जज साहब अगर आप समय रहते इस गंभीर विषय पर संज्ञान नहीं लेते हैं तो उन बच्चों की मृत आत्मा ,उनके परिजन और आने वाला वक्त कभी आपको माफ नहीं करेगा।

आपका विश्वासी

राजेश कुमार मिश्रा

मो.न.8252199122,8709041364

SPOT TV