मौजूदा वक्त में बिहार नवनिर्माण मोर्चा के संयोजक, बिहार सरकार के पूर्व मंत्री और कभी नीतीश कुमार के बेहद करीबी लोगों में से एक रहे नरेन्द्र सिंह का दर्द आखिरकार छलक आया। नरेन्द्र सिंह नीतीश कुमार की सरकार में कृषि मंत्री रहे हैं।

बाद में दूरियां बढ़ी तो पूर्व सीएम जीतन राम मांझी के साथ हो लिए बाद में फिर नीतीश कुमार के साथ आए और अब उन्होंने बिहार नवनिर्माण मोर्चा बना लिया है। अपना दर्द बयां करते हुए नरेन्द्र सिंह ने कहा कि उन्होंने हीं नीतीश कुमार को सीएम बनाया और बाद में वे मनमानी करने लगे।

जमुई स्थित परिसदन में आयोजित प्रेसवार्ता को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि मैं संघर्ष से उपजा व्यक्ति हूं तथा जीवन के इस बचे हिस्से को बर्बाद नहीं होने देना चाहता. चापलूसी और चाटुकारिता करके कुछ पाने की लालसा और महत्वाकांक्षा मेरी नहीं है.

नरेंद्र सिंह ने कहा कि उन्हें दुख तब हुआ जब 2009 के लोकसभा चुनाव में उनकी मर्जी के खिलाफ नीतीश ने जमुई में उम्मीदवार उतार दिया था और तभी से उनका नीतीश के साथ खटपट भी शुरू हो गया. पूर्व मंत्री ने कहा कि सत्तारूढ़ दल में तानाशाही चरम पर है जनता की आवाज उठाने पर सदस्य को दल से बाहर या फिर किनारा कर दिया जाता है.