वैसे तो बिहार में होने वाले पांच विधानसभा सीटों के उपचुनाव को लेकर सियासत पहले से गर्म है लेकिन अब सीवान की दरौंदा सीट से जेडीयू उम्मीदवार अजय सिंह को लेकर आरजेडी नेता शिवानंद तिवारी के एक बयान ने राजनीति को और गरमा दिया है। शिवानंद तिवारी ने कहा है कि नीतीश कुमार की नियत पर शक होता है अगर उन्होंने 2019 के लोकसभा चुनाव के दौरान हीं अजय सिंह को टिकट दे दिया होता तो उपचुनाव की नौबत हीं न आती क्योंकि उनकी पत्नी कविता सिंह पहले हीं दरौंदा से विधायक थीं।

शिवानंद तिवारी ने कहा कि लोकसभा चुनाव के समय नीतीश कुमार की नजर में अजय सिंह बड़े अपराधी थे ।तब उन्होंने अजय सिंह की पत्नी कविता सिंह को सिवान से जदयू का प्रत्याशी बनायाऔर उन्होंने जीत की। जब दरौंदा सीट खाली हुआ तो उसी अजय सिंह जो नीतीश कुमार की नजरों में अपराधी हुआ करता था उसे हीं दरौंदा से विधानसभा उम्मीदवार बना दिए ।नीतीश कुमार की यह कैसी राजनीति है?