बिहार के बहुचर्चित शेल्टर होम मामले को लेकर दिल्ली के साकेत कोर्ट में आज सुनवाई टल गयी। इस मामले में फैसला अब 20 जनवरी को आएगा। बिहार के इस बहुचर्चित मामले की वजह से बिहार सरकार और पुलिस की खूब फजीहत हुई थी। सुप्रीम कोर्ट ने सरकार और पुलिस को फटकार लगायी थी और इस मामले को दिल्ली के साकेत कोर्ट में शिफ्ट करने का आदेश दिया था। आज सबकी निगाहें दिल्ली के साकेत कोर्ट पर टिकी हुई थी लेकिन फैसले पर सुनवाई टल गयी। ब्रजेश ठाकुर समेत कुल 21 आरोपियों पर शेल्टर होम में रह रहे बच्चियों का यौन उत्पीड़न करने का आरोप है।

आरोपियों पर पॉस्को एक्ट के अलावे अपराधिक साजिश रची जाने की अन्य धाराओं में कोर्ट पहले ही आरोप तय कर चुका है। मुजफ्फरपुर शेल्टर होम कांड का खुलासा ज्प्ैै यानी टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज के रिपोर्ट से हुआ था। ज्प्ैै ने अपनी रिपोर्ट में इस बात का खुलासा किया था कि शेल्टर होम में रह रही बच्चियों का यौन उत्पीड़न किया जा रहा है। रिपोर्ट सामने आने के बाद सरकार ने इस मामले में कार्रवाई शुरू की लेकिन विपक्ष के हंगामे को देखते हुए बाद में पूरे मामले की जांच का जिम्मा सीबीआई को दे दिया था.