भारत के गृहमंत्री और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने एक इंटरव्यू के दौरान यह कहा है कि 2020 के बिहार विधानसभा चुनाव में भी नीतीश हीं एनडीए का चेहरा होंगे। अमित शाह के इस बयान पर बीजेपी एमएलसी सच्चिदानंद राय की प्रतिक्रिया सामने आयी है। सच्चिदानंद राय बीजेपी के उन नेताओं में से हैं जो कई मौकों पर सीएम नीतीश पर हमलावर रहे हैं। बीजेपी के एमएलसी सच्चिदानंद राय ने इसको लेकर अमित शाह को साधुवाद दिया है। सच्चिदानंद राय ने बीजेपी और जेडीयू की दोस्ती को अटूट बताते हुए कहा है कि बीजेपी जो कहती है वही करती है। बीजेपी बिहार की राजनीति में जेडीयू के साथ हमेशा खड़ी रही है। भले हीं जेडीयू ने एक बार हमारा साथ छोड़ दिया था।

सच्चिदानंद राय ने कहा कि 1996 से हमेशा समता पार्टी-जदयू को भाजपा ने बिहार में समर्थन दिया है। तब जदयू के नीतीशजी मुख्यमंत्री बने और उनकी ताकत बढ़ी। वर्ष 2013 में जदयू ने हमें छोड़ा था, बीजेपी ने उन्हें नहीं छोड़ा था। फिर जब 2017 में वह महागठबंधन में असहज हुए तो बिहार की जनता के हित में हमने उन्हें पुनः समर्थन दिया। दोस्ती को इस हद तक बढ़ाया कि उनके मात्र 2 सांसद होने के बावजूद 2019 के चुनाव में उनको बराबर सीटों पर लड़ने का अवसर दिया। मजबूती से साथ में लड़े, 17 में 16 सीटें वह जीते।