नागपुर: विवादों के बीच आरएसएस सम्मेलन में शामिल होने नागपुर पहुंच चुके हैं पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी।पूर्व राष्ट्रपति को गुरुवार को होने वाले समारोह में मुख्य अतिथि के तौर पर आमंत्रित किया गया है। बता दें कि प्रणब मुखर्जी ने संघ के कार्यक्रम में जाने से पहले कहा था कि वह जो कहना चाहते हैं 7 जून को नागपुर में कहेंगे।

गुरुवार को संघ मुख्यालय में होने वाले मुख्य कार्यक्रम में सरसंघचालक मोहन भागवत के साथ मंच साझा करेंगे। स्वयंसेवकों के लिए आयोजित संघ शिक्षा वर्ग के दीक्षांत समारोह में प्रणब को बतौर मुख्य अतिथि बुलाया है।  प्रणव दा ने जब से आएरएसएस के कार्यक्रम में बुलावे का न्यौता स्वीकार किया है तब से ही पार्टी में घमासान मचा हुआ है।

कांग्रेस नेता प्रणब मुखर्जी का आरएसएस के कार्यक्रम में जाने का विरोध कर रहे हैं। इस सिलसिले में असम के कांग्रेस प्रमुख रिपुन बोरा ने पूर्व राष्ट्रपति को लेटर भी लिखा है। इस लेटर में उन्होंने प्रणब मुखर्जी को आरएसएस के कार्यक्रम में ना जाने की तीन वजह बताई हैं। रिपुने ने पत्र में लिखा कि प्रणब अपने आरएसएस के कार्यक्रम में जाने से पहले एक बार फिर सोचें। राष्ट्रपति उस संस्था के कार्यक्रम में शामिल होने जा रहे हैं जिस संस्था ने आज तक राष्ट्रीय झंडे तक का आदर नहीं किया।