कोरोना वायरस महामारी के दौरान नकद अंतरण प्रौद्योगिकी के जरिये गरीबों की मदद की पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान की पेशकश पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए भारत ने बृहस्पतिवार को पड़ोसी देश को याद दिलाया कि महामारी के दौरान नई दिल्ली द्वारा दिये गए आर्थिक राहत पैकेज का आकार पाकिस्तान के जीडीपी के बराबर है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने डिजिटल संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘पाकिस्तान अपने देश के लोगों को नकद देने की बजाए देश से बाहर बैंक खातों में नकद अंतरण के लिये जाना जाता है।

इमरान खान के सलाहकारों को और बेहतर सूचना की जरूरत है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘ हम सभी को पाकिस्तान के कर्ज की समस्या (जीडीपी के 90 प्रतिशत) के बारे में पता है और कर्ज के पुनर्गठन को लेकर वे कितने दबाव में हैं। अच्छा होगा कि वे याद रखें कि हमारा आर्थिक प्रोत्साहन पैकेज पाकिस्तान के जीडीपी के बराबर है।’’ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पिछले महीने कोविड-19 महामारी के प्रतिकूल प्रभाव से महत्वपूर्ण क्षेत्रों को निपटने में मदद देने के लिये 20 लाख करोड़ रूपये के आर्थिक प्रोत्साहन पैकेज की घोषणा की थी। गौरतलब है कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने एक खबर के साथ अपने ट्विट में कहा था कि हम भारत में गरीबों की मदद करने के लिए तैयार हैं। हमारे नकद अंतरण कार्यक्रम की अंतरराष्ट्रीय स्तर पर तारीफ हुई है।