बिहार विधानसभा चुनाव की दहलीज पर खड़े बिहार में जनप्रतिनिधियों का विरोध खूब हो रहा है। ऐसी कई तस्वीरें सामने आयी है जिसमें कई विधायकों और मंत्रियों को आक्रोशित लोगों ने क्षेत्र से खदेड़ दिया है। लेकिन आरजेडी विधायक भाई विरेन्द्र की मुश्किल दूसरी है। उनकी पार्टी के लोग हीं उनका विरोध कर रहे हैं और उन्हें मनेर से उम्मीदवार नहीं बनाये जाने की मांग कर रहे हैं। मनेर विधानसभा क्षेत्र के प्रखंड समिति की बैठक बुलाई गई। जिसकी अध्यक्षता पटना जिलाध्यक्ष देवमुनि सिंह यादव ने किया।

इस बैठक में भाई वीरेन्द्र को मनेर विधानसभा क्षेत्र से दुबारा उम्मीदवार ना बनाये जाने का प्रस्ताव पारित किया गया। बैठक के बाद जिलाध्यक्ष देवमुनि सिंह यादव ने कहा कि प्रखंड स्तर के कार्यकर्ताओं ने उन्हें बुला कर कहा है कि वे पार्टी के आलाकमान को मनेर से राजद का उम्मीदवार बदलने की बात करें।कार्यकर्ताओं का आरोप है कि स्थानीय विधायक जनता का नहीं अपना विकास कर रहे हैं। उन्होंने मनेर के लिए 10 सालों से कुछ भी नहीं किया। कार्यकर्ताओं ने उनके ऊपर विकास कार्यो में कमीशनखोरी, भरष्टचार जैसे कई गंभीन आरोप लगाए। कार्यकर्ताओं का कहना था कि भाई वीरेंद्र उन लोगों की कद्र नहीं करते।