New Delhi,R.Kumar: भारत और पाकिस्तान पड़ोसी मुल्क हैं। दोनों की समस्याएं भी तकरीबन एक जैसी है। दोनों जगह जनता के द्वारा चुनी हुई सरकार है। एक तरफ श्री नरेंद्र मोदी तो दूसरी तरफ जनाब इमरान खान अपने अपने देश में प्रधानमंत्री की कुर्सी पर विराजमान हैं।

लेकिन आजकल दोनों को एक ही समस्या से जुझ रहे हैं। वो है महंगाई। इमरान को टमाटर आंख दिखा रही है तो मोदी जी को लहसुन-प्याज खुन के आंसू रूला रही है।जनता लहसुन- प्याज की कीमतों से हलकान हैं। हर तरफ प्याज की कीमतों की चर्चा है।

पाकिस्तान में महंगाई अपने चरम पर है. अब हालात ये हो चले हैं कि लोग सब्जी तक खरीद नहीं पा रहे हैं।रोजाना इस्तेमाल होने वाली सब्जियां पाकिस्तान में लोगों की पहुंच से बाहर होती जा रही हैं। हाल ये है कि पाकिस्तान में टमाटर 300 रुपये किलो बिक रहा है।

अब सीजन में आम तौर पर मिलने वाली गोभी भी डेढ़ सौ रुपये किलो तक बिक रही है। अदरक का हाल तो और भी बुरा है। 500 रुपये किलो अदरक के भाव पहुंच गए हैं। भारत में जहां लोग प्याज से ही परेशान हैं वहीं पाकिस्तान में लोग सब्जी तक खाने को तरस रहे हैं।वहीं भारत में लहसुन 200 रुपये और प्याज 80 रुपये किलो है।

आश्चर्य की बात यह है कि महंगाई पर पूरे देश में आंदोलन खड़ा करनेवाली भाजपा सरकार और कथकली करने वाले उनके नेताओं को आज महंगाई दिखाई नहीं दे रही है।