लोकसभा में संसोधित बैंकिंग रेग्‍युलेशन एक्‍ट, 1949 पेश कर दिया गया है। इसके जरिए बैंक उपभोक्ताओं की मुश्किलें कम करने की कोशिश की जाएगी। वहीं इस विधेयक को पेश करने के दौरान वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बैंकों से जुड़ी जानकारी दी। उन्होंने बताया कि देश में किन बैंकों की स्थिति ज्यादा खराब है। इन बैंकों की स्थिति ज्यादा खराब वित्त मंत्री ने कहा कि देश में 227 अर्बन को-ऑपरेटिव बैंकों की स्थिति हद से ज्यादा खराब है। वहीं उनमें से 105 को-ऑपरेटिव बैंक ऐसे हैं जिनके पास भी नहीं है। इसके अलावा 47 बैंको की स्थिति तो नेगेटिव में चल रही है।

वित्त मंत्री ने कहा कि इसी तरह से कोई भी बैंक पर मुसीबत आती है तो सबसे ज्यादा समस्या ग्राहकों को उठानी पड़ती है।इसके साथ ही सोमवार को निर्मला सीतारमण ने संसद में सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों को रीकैपिटलाइजेशन बॉन्ड के जरिये 20 हजार करोड़ रुपये देने की मंजूरी मांगी थी। उन्होंने कहा था ये कदम सरकारी बैंकों के लिए काफी फायदेमंद हो सकता है।