मानहानि के एक मामले में राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव को पटना की एक विशेष अदालत में वीडियो कांन्फ्रेन्सिंग के जरिए पेश होना था लेकिन उनकी पेशी टल गयी है। अब 20 जनवरी की इस मामले में पेशी होगी। यह मामला बिहार आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के सदस्य उदयकांत मिश्र द्वारा दायर मानहानि केस का है जिसमें पेशी के लिए लालू को वारंट जारी किया गया था।कोर्ट ने बिरसा मुंडा जेल अधिकारियों से इस मामले में लालू को दो दिसंबर को पेश करने को कहा था. स्पेशल कोर्ट के न्यायाधीश राजीव नयन ने इस मामले की अगली सुनवाई की तारीख 20 जनवरी निर्धारित की है.बता दें कि 2017 में भागलपुर में आयोजित एक रैली में लालू प्रसाद और उनके बेटे तेजस्वी प्रसाद यादव ने करोड़ों रुपये के बिहार के सृजन घोटाला मामले में उदय कांत मिश्र का नाम लिया था।

लालू प्रसाद ने सार्वजनिक रूप से लेते हुए नीतीश कुमार पर आरोप लगाया था कि जब भी वह भागलपुर आते थे, सर्किट हाउस में रहने की सुविधा होने के बावजूद नियमित रूप से उदयकांत मिश्र के घर जाया करते थे.लालू प्रसाद और तेजस्वी के उस बयान को अपमानजनक बताते हुए उदयकांत मिश्र ने बिना शर्त माफी मांगने की मांग करते हुए दोनों के खिलाफ कानूनी नोटिस भेजा था. लेकिन बाद में उन्होंने तेजस्वी के खिलाफ न जाने का निर्णय लेते हुए लालू के खिलाफ उक्त याचिका दर्ज कराई थी।