जेडीयू से निकाले जाने के बाद पहली बार पटना पहुंचे प्रशांत किशोर ने आज जिस तरह से नीतीश कुमार पर हमला बोला है उसको लेकर बिहार की राजनीति गरमा गयी है। पहले आरसीपी सिंह ने प्रशांत किशोर पर पलटवार किया है और अब केसी त्यागी ने पीके पर हमला बोला है। त्यागी ने कहा कि मेरा मानना है कि 1990 और 2015 के बिहार काफी अलग है. लेकिन प्रशांत किशोर मानते हैं कि कोई विकास और बिहार में बदलाव नहीं हुआ है तो वह क्यों जदयू का राष्ट्रीय उपाध्यक्ष का पद स्वीकार किए. यह तो नैतिकता के खिलाफ हैं.

वह बिहार में आए कोई संगठन खड़ा करें. वह अब तक एक घंटा भी कोई राजनीतिक कार्यक्रम धरना प्रदर्शन में शामिल नहीं हुए हैं. वह दस साल राजनीति में बिताए और बिहार के लिए कुछ अच्छा काम करके दिखाए.