भारत सरकार ने नेपाल द्वारा नए नक्शे में किए भौगोलिक दावों को खारिज करते हुए कड़ी आपत्ति जताई है। लिपुलेख और कालापाली को अपने क्षेत्र में प्रदर्शित किये जाने पर कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए धवार को विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने कहा कि इस तरह से क्षेत्र में कृत्रिम विस्तार के दावे को स्वीकार नहीं किया जायेगा। भारत ने नेपाल को यह भी नसीहत है कि उसे अनुचित दावों से बचना चाहिए।

नेपाल के दावों को खारिज करते हुए विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने कहा, इस तरह का एकतरफा कार्य ऐतिहासिक तथ्यों और साक्ष्यों पर आधारित नहीं है। यह द्विपक्षीय समझ के विपरीत है जो राजनयिक वार्ता के जरिये लंबित सीमा मुद्दों को सुलझाने की बात कहता है। उन्होंने कहा, ऐसे कृत्रिम तरीके से क्षेत्र में विस्तार के दावे को भारत स्वीकार नहीं करेगा। भारत ने यह भी कहा कि नेपाल सरकार अपने फैसले पर फिर से विचार करे।