बिहार में महागठबंधन के अंदर खाने मची कलह के कयासों के बीच कांग्रेस ने महागठबंधन में बने रहने के लिए बड़ी शर्त रख दी है.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक एक इंटरव्यू के दौरान कांग्रेस के कद्दावर नेता और प्रवक्ता प्रेमचंद्र मिश्रा ने कहा है कि…

2019 के लोकसभा चुनाव में हमें जो सीटें दी गई वह सम्मानजनक समझौता नहीं था हमें सिर्फ 9 सीटें दी गई थी.

इसलिए लोकसभा चुनाव के दौरान जो हुआ हम दोबारा वह नहीं चाहते, हम एक सम्मानजनक समझौता चाहते हैं

और यह कतई नहीं चाहते कि 2019 के लोकसभा चुनाव के पैटर्न पर 2020 का बिहार विधानसभा चुनाव लड़ा जाए.

प्रेमचंद्र मिश्रा ने अभी कहा है कांग्रेस अपने संगठन को मजबूत करने के लिए जुटी हुई है और अगर वैसी स्थिति बनी तो कांग्रेस अकेले ही चुनाव लड़ सकती हैं.

आपको बता दें कि महान गठबंधन में नेतृत्व के सवाल को लेकर पहले ही खींचतान चल रही है और अब प्रेमचंद्र मिश्रा के इस बयान ने गरमाहट को बढ़ा दिया है…

साथ ही यह भी स्पष्ट कर दिया है कि 2019 के लोकसभा चुनाव की तरह 2020 के बिहार विधानसभा चुनाव में कांग्रेस आरजेडी की हर शर्त को मानने के लिए तैयार नहीं है.