पटना: नवरात्र के मौके पर यों तो माता की प्रतिमा को लेकर हर तरफ चर्चा रहती है लेकिन इसी में से कोई-कोई प्रतिमा लोगों के बीच चर्ची का विषय बन जाती है। कुछ ऐसा ही इस बार देखने को मिल रहा है राजधानी पटना के श्रीकृष्णानगर में। जहां मां की प्रतिमा को साबूदाना से निर्माण किया जा गया है।इसमें माता की प्रतिमा में 18 हाथ बनाए जा गए हैं।इसका निर्माण करने वाले मूर्तिकार विकास राज पिछले 10 साल से माता की प्रतिमा को निर्माण करते आ रहे हैं। साथ ही साथ यह पटना के मंदिरी इलाके में भी प्रतिमा का निर्माण किए हैं जिसको गेहूं से बनाया गया हैं।बोरिंग रोड पहलवान मार्केट में भी माता की प्रतिमा का मोम से निर्माण किया गया है।विकास राज के इस कलाकारी की हर तरफ सराहना हो रही है। कम उम्र में इतने बड़े मुकाम को हासिल कर पाना उनके लिए बहुत बड़ी बात है।विकास ने पटना के कला एवं शिल्प महाविद्यालय से अपनी पढ़ाई की साथ ही साथ माता की प्रतिमा का निर्माण भी करते रहे और हर साल माता की प्रतिमा का निर्माण करते हैं।श्री श्री दुर्गा पूजा समित नवयुवक संघ के सचिव व वार्ड पार्षद 25 पटना नगर निगम श्री रजनीकांत जी ने बताया कि पिछले 3 वर्ष से विकास राज हमारे यहां माता की प्रतिमा का निर्माण कर रहे हैं माता की प्रतिमा का भव्य रूप चावल व अभ्रक से निर्माण कर चुके हैं।श्री कृष्णा नगर पूजा समिति के अध्यक्ष -शशि रंजन और पिंटू उपाध्यक्ष -कुणाल यादव,सचिव- रजनीकांत,कोषाध्यक्ष -रोहन राज ,मोहित मिश्रा…समिति के सदस्य,सौरभ ,गौरव ,पवन ,रोशन दीपक, रोहन ,मनीष ,साकेत, जीतू ,अभिषेक ,प्रिंस ,अजय आदि है।दशहरा के मौके पर इस बार पटना में सबसे ज्यादा आकर्षण का केंद्र है श्रीकृष्णानगर में बने साबूदाना से बनी मां की प्रतिमा।