असम के गोरखा नेता और पूर्व बीजेपी सांसद जेडीयू का दामन थामने वाले हैं। जेडीयू में उनकी एंट्री को लेकर बात और मुलाकात का सिलसिला भी चला है और माना जा रहा है कि सिर्फ औपचारिकता हीं बची है।

यानि यह तय है कि बीजेपी के पूर्व सांसद अब जेडीयू ज्वाइन करेंगे। मीडिया रिपोर्ट्स के हवाले से जो खबर सामने आ रही है उसके मुताबिक राम प्रसाद शर्मा दिल्ली में जदयू के राष्ट्रीय महासचिव और पूर्वोत्तर राज्यों के प्रभारी अफाक अहमद से मिले.

जहां सब कुछ फाइनल हो गया. जदयू महासचिव अफाक अहमद ने मीडिया से बात करते हुए स्वीकारा कि राम प्रसाद शर्मा ने उनसे मुलाकात की है. उन्होंने कहा कि शर्मा के जदयू में शामिल होने पर सकारात्मक बातचीत हो रही है.

राम प्रसाद शर्मा असम के गोरखा नेता हैं. 2014 में वे भाजपा के टिकट पर तेजपुर से सांसद चुने गये थे. लेकिन उनके बुरे दिन 2018 में शुरू हो गये जब उनकी बेटी पल्लवी शर्मा को अवैध तरीके से असम पुलिस में डीएसपी पद पर बहाल करने का मामला सामने आया.इस मामले में पुलिस ने केस दर्ज कर पल्लवी शर्मा को जेल भेज दिया.

पल्लवी फिलहाल जमानत पर जेल से बाहर हैं. नियुक्ति घोटाले में राम प्रसाद शर्मा का नाम आने के बाद भारतीय जनता पार्टी ने उन्हें किनारे कर दिया. 2019 के लोकसभा चुनाव में पार्टी ने उनसे पल्ला झाड़ते हुए टिकट काट दिया. नाराज राम प्रसाद शर्मा ने भारतीय जनता पार्टी से इस्तीफा दे दिया.