नई दिल्ली,उमाशंकर: पाकिस्तान जम्मू-कश्मीर को लेकर दुनियाभर में झूठ मायाजाल फैला रहा लेकिन उसे हर मंच पर हार का सामना करना पड़ रहा है। ताजा मामला पाक का यूरोपीय संसद में कश्मीर के मुद्दे पर है। यहां भी इसे करारा झटका लगा है। यूरोपीय संसद ने कहा है कि कश्मीर पर दोनों देशों को बात करनी चाहिए और इसमें उसकी कोई भूमिका नहीं है।

पोलैंड नेता और यूरोपियन यूनियन के सांसद रिजार्ड जार्नेकी ने कहा कि भारत में आतंकी चांद से नहीं पड़ोसी मुल्क से आते हैं। भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतांत्रिक देश है। हमें भारत में होने वाले आतंकी हमलों को देखने की जरूरत है। जम्मू-कश्मीर में आतंकी चांद से नहीं आते हैं, पड़ोसी मुल्क से आते हैं। हमें कश्मीर मसले पर भारत का समर्थन करना चाहिए।

संसद ने 11 सालों में पहली बार कश्मीर मुद्दे पर चर्चा की और यह भी कहा कि उसकी कश्मीर में कोई भूमिका नहीं है।European Union में इटली के फुलवायो मार्तसिलो ने कहा, ‘पाकिस्तान ने परमाणु हथियारों के इस्तेमाल की धमकी दी है। पाकिस्तान ऐसा स्थान है जहां आतंकवादी यूरोप में आतंकी हमले करने की योजना बनाने में सफल रहते हैं। यहां मानवाधिकारों का जबरदस्त उल्लंघन होता है।’

पाक पीएम इमरान खान कई देशों के सामने कश्मीर का रोना रो चुके हैं, लेकिन हर जगह से उन्हें निराशा ही मिली। पाकिस्तान के दुष्प्रचार के इतर भारत पूरी दुनिया को बताता रहा है कि कश्मीर उसका आंतरिक मामला है और पाकिस्तान को सलाह दी कि वो सच्चाई को स्वीकार करे