पाकिस्तान भी अब कोरोना वायरस की चपेट में आ गया है। यहां बड़ी तेजी से यह वायरस फैलता जा रहा है। भारत समेत दुनिया के दूसरे देशों में शहर के शहर बंद किए जा रहे हैं ताकि वायरस को फैलने से रोका जा सके। लेकिन पाकिस्तान में ऐसा करना नामुमकिन है, यह कहना है पीएम इमरान खान का। इमरान ने कहा है कि पश्चिमी देशों की तरह पाकिस्तान बड़े स्तर पर शहरों को बंद करने का जोखिम नहीं उठा सकता है। उनका कहना है कि यहां हालात अमेरिका या यूरोप जैसे नहीं हैं। यहां 25 फीसदी आबादी गरीबी में रहती है। अगर शहर बंद किए जाते हैं तो लोगों को कोरोना वायरस से तो बचा लिया जाएगा, लेकिन वे भूख से मर जाएंगे।

माना जा रहा है कि पाकिस्तान को कोरोना वायरस का खतरा बाकी देशों से ज्यादा है। इसकी सीमाओं से अंदर-बाहर करना आसान है, अस्पतालों की हालत खराब है, हाथ मिलाना और गले मिलने परंपरा का हिस्सा है और बड़े शहरों में भी लाखों की जनसंख्या अशिक्षित है। इस सबके अलावा देश की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं है और इसे कई बार इंटरनैशनल मॉनिटरी फंड से लोन लेने की जरूरत पड़ चुकी है। इन सब बातों से इमरान खान भी अच्छा तरह वाकिफ हैं। अब तक कोरोना वायरस से इन्फेक्शन के 237 मामले सामने आ चुके हैं। प्रधानमंत्री इमरान खान को कुछ समझ नहीं आ रहा है कि आखिर कोरोना वायरस से कैसे निपटा जाए।