सरकार की ओर से दूसरी तिमाही के जीडीपी आंकड़े शुक्रवार को जारी किए गए। मौजूदा वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही यानी जुलाई-सितंबर तिमाही में जीडीपी ग्रोथ रेट गिरकर 4.5 प्रतिशत पर आ गई है। इन आकंड़ों के सामने आने के बाद सरकार पर विपक्षी दल लगातार हमला बोल रहे हैं। शनिवार को पूर्व वित्त मंत्री पी चिंदबरम ने तीसरी तिमाही की भविष्यवाणी करते हुए कहा कि, तीसरी तिमाही में भी ग्रोथ रेट 4.5% से अधिक नहीं होगी।

साथ ही अन्य संभावनाएं भी बदतर हैं।लगभग पिछले 100 दिनों से जेल में बंद पूर्व वित्त मंत्री पी चिंदबरम की ओर से किए गए ट्वीट में कहा गया है कि, ‘जैसा कि व्यापक रूप से भविष्यवाणी की गई थी, दूसरी तिमाही में जीडीपी ग्रोथ रेट 4.5% रही है। फिर भी सरकार कहती है ‘ऑल इज वेल’। तीसरी तिमाही में भी ग्रोथ रेट 4.5% से अधिक नहीं होगी। साथ ही अन्य संभावनाएं भी बदतर हैं। बता दें कि, पहले से ही सुस्ती झेल रही देश की अर्थव्यवस्था की विकास दर दूसरी तिमाही में गिरक 4.5 फीसदी पर आ गई, जो छह साल का निचला स्तर है।