महाराष्ट्र की राजनीति में एक बार फिर से हलचल देखने को मिल सकती है। महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री नारायण राणे ने दावा किया है कि शिवसेना के 35 अपनी पार्टी के नेतृत्व से नाखुश हैं। राणे ने दावा किया है कि ये सभी विधायक अपनी पार्टी के नेतृत्व से संतुष्ट नहीं है, जिसकी वजह से ये विधायकों में रोष है। बता दें कि नारायण राणे मौजूदा समय में भाजपा के कोटे से राज्यसभा सांसद हैं। उन्होंने इस बात का भरोसा जाहिर किया है कि प्रदेश में फिर से भाजपा की सरकार बन सकती है।नारायण राणे ने कहा कि प्रदेश की शिवसेना-एनसीपी-कांग्रेस सरकार प्रदर्शन नहीं कर रही है।

प्रदेश में सरकार बनाने में इन्हें पांच हफ्ते का समय लग गया। राणे ने भरोसा जताया है कि प्रदेश में एक बार फिर से भाजपा की सरकार बनेगी। प्रदेश में भाजपा के 105 विधायक हैं और शिवसेना के 56 विधायक। लेकिन 56 में से 35 विधायक अपने नेतृत्व से खुश नहीं हैं। राणे ने कहा कि महाराष्ट्र की सरकार ने वादा किया था कि वह किसानों का कर्ज माफ करेगी, लेकिन उनका यह वादा खोखला निकला। अभी तक इस कर्जमाफी को लागू करने की तारीख का ऐलान नहीं किया गया है।