नई दिल्ली: फिल्म अभिनेता जॉन अब्राहम की बाटला हाउस उनके कैरियर की एक बड़ी फिल्म साबित होने जा रही है। मृणाल ठाकुर के लिए भी ये यादगार फिल्म साबित होगी।

19 सितंबर, 2008 को बाटला हाउस में हुए एनकाउंटर पर आधारित है इस फिल्म में जॉन अब्राहम डीसीपी संजीव कुमार की भूमिका निभा रहे हैं जिनपर फर्जी एनकाउंटर का आरोप लगा था।

बाटला हाउस एनकाउंटर पर जांच हुई थी और अब भी इस मुद्दे पर अदालत के फैसले का इंतजार है। इस एनकाउंटर में दो लड़कों के साथ-साथ एक पुलिस अफसर की भी मौत हुई थी। इस फिल्म के जरिए दर्शक इस बाटला हाउस एनकाउंटर की कहानी को देख सकेंगे।

आपको याद होगा की उस वक्त ये बाटला हाउस एनकाउंटर राजनीतिक मुद्दा भी बन गया था। इस फिल्म में सबसे खास बात यह है कि स्टोरी पर अच्छी रिसर्च की गई है। ह्यूमन राइट्स, पुलिस, एनजीओ, मीडिया और आम जनता के नजरिये को भी जगह दी गई है।


उस वक्त उठने वाले कई सवाल का जवाब ‘बाटला हाउस देती नजर आ रही है। जैसे ‘एक लड़के के सिर पर गोली कैसे लगी? और इतनी सुरक्षा के होते हुए दो लोग भागे कैसे?’

निखिल अडवाणी के निर्देशन में बनी फिल्म ‘बाटला हाउस’ की स्क्रिप्टिंग और निर्देशन कसी हुई है। कहीं से बिखराव नजर नहीं आता है। फिल्म में जॉन ने डीसीपी संजीव कुमार की भूमिका में जान डाल दी है।

एक्ट्रेस मृणाल ठाकुर भी अपने रोल के साथ न्याय किया है। एक्टिंग से इतर फिल्म की सिनेमेटोग्राफी भी बेहतरीन है और इसकी एडिटिंग भी लाजवाब।आप बिना सोचे समझे इस फिल्म को देखने जा सकते हैं। आपको अंत तक फिल्म बांधे रखेगी।