मऊ। रामजन्म भूमि- बाबरी मस्ज़िद विवाद पर फैसले को लेकर जहाँ सभी पक्षकार उत्साहित है कि फैसला उनके पक्ष में आएगा वहीं आम जनमानस में भय का वातावरण है। पुलिस और प्रशासन चुस्त है।

कोई राम मंदिर के निर्माण का मॉडल और शिलाएं बनाकर योजनाएं बना रहा है कोई बाबरी मस्जिद का नक्शा भी बनाकर पेश कर रहा है। बाबरी मस्जिद का नक्शा बनाने वालों का कहना है कि मस्जिद निर्माण के साथ उसमें एक पुस्तकालय और इस्लामिक रिसर्च सेंटर के साथ सेमिनार हॉल भी होना चाहिये।

हालांकि सभी पक्षो का कहना है कि सुप्रीमकोर्ट द्वारा जो भी निर्णय आएगा उसको पूर्ण रूप से स्वीकार किया जाएगा, फिर भी अमन पसंद लोग चिंतित हैं। इस मामले पर मऊ नगरपालिका के पूर्व चेयरमैन अरशद जमाल का मानना है कि अब इस विवाद को सदैव के लिये समाप्त हो जाना चाहिये। इस विवाद ने देश को बहुत नुकसान पहुचाया है। मस्जिद अल्लाह का घर है, जो भी अल्लाह की रजा होगी वही फैसला आएगा।