नई दिल्ली,उमाशंकर: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अयोध्या पर फैसले के बाद देश को संबोधित किया। अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद पीएम मोदी पहली बार देश को संबोधित किया। प्रधानमंत्री ने कहा कि अयोध्या पर कोर्ट ने फैसला सुनाया है। जिसके पीछे सैकड़ों वर्षों का एक इतिहास रहा है। पूरे देश की ये इच्छा थी कि इस मामले में अदालत में हर रोज सुनवाई हो। और आज फैसला आ चुका है।

दशकों तक चली न्याय प्रक्रिया और उस प्रक्रिया का समापन हुआ है। पूरी दुनिया मानती है कि भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतांत्रिक देश है। फैसला आने के बाद जिस तरह से हर वर्ग के लोगों ने खुले दिल से इसे स्वीकार किया है, भारत के परंपरा को दिखाता है।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि अयोध्या मामले पर सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने सबको सुना। देश के लिए खुशी की बात है कि फैसला सर्वसम्मति से आया। परिवार में छोटा मसला सुलझाना हो तो दिक्कत आती है।

आज 9 नवंबर है। ये वही तारीख है जब बर्लिन की दीवार गिरी थी। दो विपरीत धाराओं ने एकजुट होकर नया संकल्प लिया था। आज 9 नवंबर को करतारपुर कॉरिडोर की शुरुआत हुई है। इसमें भारत और पाकिस्तान दोनों का योगदान रहा है। ये तारीख हमें साथ रहकर आगे बढ़ने का संदेश देती है। गौरतलब है कि मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पांच सदस्यीय संविधान पीठ ने इस व्यवस्था के साथ ही राजनीतिक दृष्टि से बेहद संवेदनशील 134 साल से भी अधिक पुराने इस विवाद का पटाक्षेप कर दिया।