नई दिल्ली,उमाशंकर: दिल्ली में 2020 के शुरुआत में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर आम आदमी पार्टी पूरी तरह से जी जान से जुटी हुई है। यही वजह है कि पार्टी ने चुनावी रणनीतिकार के तौर पर देश भर में चर्चित प्रशांत किशोर को अपने साथ जोड़ लिया है। इसकी पुष्टि खुद मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी है। ‘आप’ के संयोजक केजरीवाल ने लिखा, ‘यह जानकारी देते हुए खुशी हो रही है कि आई-पैक हमारे साथ जुड़ी है। आप का स्वागत है।’

बता दें कि आईपैक यानी इंडियन पॉलिटिकल ऐक्शन कमिटी प्रशांत किशोर की संस्था है, जो चुनाव प्रबंधन का काम करती है। एक दौर में पीएम नरेंद्र मोदी के साथ काम कर चुके प्रशांत किशोर को देश के बड़े चुनावी रणनीतिकारों में शुमार किया जाता है। पंजाब के विधानसभा चुनावों में उन्होंने कांग्रेस के लिए काम किया था। खुद आईपैक ने भी आम आदमी पार्टी के साथ जुड़ने की जानकारी दी है। आईपैक ने अपने ट्विटर अकाउंट पर अरविंद केजरीवाल को टैग करते हुए लिखा, ‘पंजाब के चुनाव नतीजों के बाद हमें यह पता चला था कि आप सबसे मजबूत विपक्षी थे, जिनका हमने सामना किया। आपके साथ जुड़ने पर खुशी है।’

वहीं दुसरी तरफ जेडीयू के उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर पिछले पांच दिनों से लगातार नागरिकता संशोधन बिल (CAB) पर पार्टी लाइन से हटकर बोल रहे हैं। ऐसा लगता है कि उन्होंने पार्टी अध्यक्ष और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से आर-पार करने का मूड बना लिया है। शुक्रवार (13 दिसंबर) को उन्होंने फिर ट्वीट किया, संसद में बहुमत कायम रहा। अब न्यायपालिका से परे भारत की आत्मा को बचाने का काम 16 गैर-भाजपाई मुख्यमंत्रियों के कंधों पर है क्योंकि यह ऐसे राज्य हैं जिन्हें ये काम करने हैं।” पीके ने लिखा, “3 मुख्यमंत्रियों (पंजाब, केरल और पश्चिम बंगाल) ने #CAB और #NRC को ना कहा है। अब दूसरों के भी रुख स्पष्ट करने का समय आ गया है।”

इधर बिहार के राजनीतिक गलियारे में पीके नाम से फेमस प्रशांत किशोर पर अब जदयू का चौतरफा हमला शुरू हो गया है। वशिष्ठ नारायण सिंह के बाद अब आरसीपी सिंह ने जोरदार हमला किया है। शुक्रवार को जदयू के राष्ट्री य महासचिव व राज्यीसभा सांसद आरसीपी सिंह ने बिना नाम लिये प्रशांत किशोर को अनुंकपा वाला नेता तक कह डाला। जेडीयू के वरीष्ठ नेता आरसीपी ने भी उन्हें बाहर जाने तक कह दिया। सूत्रों की माने तो आज शाम वो मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मिलकर पार्टी को अलविदा भी कह सकते हैं!