बिहार में महागठबंधन में जो कलह मची है वो खत्म होने का नाम नहीं ले रही है। कभी उपचुनाव में सीटों के बंटवारे को लेकर महागठबंधन में तनातनी बढ़ जाती है तो कभी सीएम पद को लेकर कलह सुलग उठती है। आरजेडी ने तेजस्वी यादव को सीएम पद का उम्मीदवार घोषित कर दिया है लेकिन ‘हम’ और कांग्रेस जैसे सहयोगियों को यह मंजूर नहीं है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक पूर्व सीएम जीतन राम मांझी ने कहा कि हिन्दुस्तानी आवाम मोर्चा गरीबों की पार्टी है।

हमारा लक्ष्य है गरीबी उन्मूलन। समाज में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले लोग दूसरे राजनीतिक दलों में जाने की वजाय हिन्दुस्तानी आवाम मोर्चा ज्वाईन कर रहे हैं। सबलोगों के दिल में एक कसक है कि हमें कुछ दिन के लिए मुख्यमंत्री बनने का मौका मिला अगर कुछ दिन और मौका मिला होता तो और बेहतर काम होता। ‘मांझी’ ने कहा कि लोगों को लग रहा है कि 2020 में या तो जीतन राम मांझी समर्थित सरकार बनेगी या फिर कोई दलित सीएम होगा।