नई दिल्ली,उमाशंकर: भुगतान बैंकिंग बाजार में अब तक चार कंपनियां बोरिया बिस्तर समेट चुकी हैं। टेक महिंद्रा, चोलामंडलम इन्वेस्टमेंट एंड फाइनैंस कंपनी और दिलीप सांघवी, आईडीएफसी बैंक लिमिटेड और टेलिनॉर फाइनैंशल सर्विसेज के गठबंधन में बना भुगतान बैंक बाजार छोड़ने की घोषणा पहले ही कर चुके हैं। इसी कड़ी में अब आदित्य बिड़ला आइडिया पेमेंट्स बैंक अपना कारोबार समेटने जा रहा है।

भारतीय रिजर्व बैंक ने बताया कि कंपनी के स्वेच्छा से अपना कारोबार समेटने का आवेदन करने के बाद उसके परिसमापन को मंजूरी दे दी गई है। रिजर्व बैंक ने कहा कि बॉम्बे हाईकोर्ट ने डेलॉयट टूश तोमात्सु इंडिया एलएलपी के वरिष्ठ निदेशक विजयकुमार वी. अय्यर को इसके लिए लिक्विडेटर नियुक्त किया है।इस साल जुलाई की शुरुआत में आदित्य बिड़ला आइडिया पेमेंट्स बैंक ने अपना कारोबार समेटने की घोषणा की थी। कंपनी ने इसके पीछे अहम वजह ‘अप्रत्याशित घटनाक्रम’ के चलते कारोबार का ‘अव्यवहारिक’ होना बताई थी।

ABIPBLने ऑफिशियल वेबसाइट www.adityabirla.bank पर मैसेज के जरिए अपने कारोबार को समेटने की जानकारी दी. इस मैसेज में बैंक ने अपने ग्राहकों के लिए लिखा है- हम आपको आश्वस्त करना चाहते हैं कि बैंक ने आपकी जमा राशि की वापसी के लिए पूरी व्यवस्था की है। वेबसाइट पर उपलब्धव मैसेज में आगे कहा गया है कि हम आपसे ऑनलाइन / मोबाइल बैंकिंग / निकटतम बैंकिंग प्वासइंट के माध्यम से पेमेंट बैंक में जमा राशि को ट्रांसफर कराने का अनुरोध करते हैं।