कोरोना की पहली आयुर्वेदिक दवा कोरोनिल लॉन्च होने के बाद से ही विवादों में घिरी थी। इसी बीच बाबा रामदेव और आचार्य बालकृष्ण के खिलाफ कोरोनिल के मामले में ही एफआईआर भी दर्ज की गई गई। अब आचार्य बालकृष्ण ने कोरोना की दवा को लेकर कहा है कि हमने कभी कोरोना की दवा बनाई ही नहीं।आचार्य बालकृष्ण ने कहा कि हमने कभी नहीं कहा कि हमने कोरोना की दवा बनाई है। उन्होंने कहा कि ये सच है कि कोरोनिल का इस्तेमाल क्लीनिकल ट्रायल के लिए कोरोना के मरीजों पर किया गया था।

इससे कोरोना के मरीज ठीक भी हुए।बालकृष्ण ने कहा कि हमने इम्यूनिटी बूस्टर के लिए लाइसेंस लिया था और उसी के लिए कोरोनिल दवा बनाई गई है। उन्होंने कहा कि इसमें हमने गिलोय, अश्वगंधा और तुलसी के कंपाउंड मिलाए थे और उसी बेसिस पर क्लीनिकल ट्रायल भी किया गया था। उन्होंने कहा कि हमने देश की जनता के सामने ये कभी नहीं कहा कि कोरोना के इलाज के लिए कोरोनिल की दवा बनाई गई है।कोरोनिल के लॉन्च के वक्त बाबा रामदेव और आचार्य बालकृष्ण ने ये दावा किया था कि कोरोनिल से तीन दिनों के अंदर ही 69 प्रतिशत कोरोना के मरीज ठीक हो गए। वहीं सात दिनों के अंदर 100 प्रतिशत कोरोना संक्रमितों को ठीक करने का भी दावा किया गया था।