देवबंद, यूपी। मोदी सरकार की सत्ता में जोरदार वापसी के साथ ही एक बार फिर तीन तलाक का मुद्दा सुर्खियों में है। अपने पहले कार्यकाल में मोदी सरकार तीन तलाक बिल को राज्यसभा में पास नहीं करवा पाई थी लेकिन इस लोकसभा में मिले प्रचंडबहुमत के बाद आने वाले दिनों में राज्यसभा में भी NDA बहुमत आ ही जाएगा इसके बाद तीन तलाक जैसे बिल आसानी से पास करवाए जा सकेंगे। तीन तलाक के मुद्दे को लेकर देवबंदी उलेमा केंद्र सरकार के बिल का विरोध करते रहे हैं। एक बार देवबंदी उलेमा ने तीन तलाक बिल को मजहबी मामलों में दखलंदाजी करार दिया है। दरअसल केंद्र सरकार एक बार फिर तीन तलाक पर रोक लगाने के लिए विधेयक लाने की तैयारी कर रही है। पिछले महीने 16 वीं लोकसभा के भंग होने के साथ फौरी तीन तलाक पर पाबंदी लगाने वाले विवादित विधेयक की मियाद समाप्त हो गई क्योंकि यह राज्यसभा से पारित नहीं हो पाया था।