सासाराम, रंजन कुमार: रोहतास जिला में शराब माफियाओं की हैसियत इतनी बढ़ गई है कि अब वह पुलिस को भी नहीं छोड़ते हैं। शराब के लिए छापेमारी करने गई पुलिस पर शराब कारोबारियों ने हमला ही नहीं किया, बल्कि थाना प्रभारी को दौड़ा-दौड़ा कर पीटा। शराब कारोबारियों की पिटाई से पुलिस टीम किसी तरह भागकर अपनी जान बचाई। रोहतास जिला के काराकाट थाना अंतर्गत मोहनपुर गांव में शराब माफियाओं ने पुलिस की टीम पर हमला कर दिया। इससे थाना प्रभारी सहित 3 पुलिसकर्मी घायल हो गए जिसमे एक पुलिसकर्मी की स्थिति चिंताजनक बनी हुई है।

सभी को बिक्रमगंज के एक निजी क्लिनिक में इलाज कराया जा रहा है। घटना के बारे में बताया जाता है कि पुलिस को सूचना मिली थी कि काराकाट के मोहनपुर गांव में अवैध रूप से शराब बिक्री हो रही है। इसी सूचना पर काराकाट के थानाध्यक्ष संतोष कुमार सिंह दलबल के साथ गांव में जब पहुंचे तथा शराब के लिए छापेमारी शुरू की तो देखते ही देखते शराब कारोबारियों के समर्थन में सैकड़ों ग्रामीण आ गए ।

वही पुलिसकर्मियों से मारपीट करने लगे। पुलिस कर्मियों ने जब बल प्रयोग करना चाहा तो उन लोगों ने पथराव कर दिया। जिसमें थाना प्रभारी संतोष कुमार सिंह सहित अन्य पुलिसकर्मी जख्मी हो गए। वही राजू कुमार नामक एक सिपाही को गंभीर चोट लग गई। उसे बिक्रमगंज के निजी क्लीनिक में लाया गया। बताते चलें कि पुलिस ने 92 बोतल अंग्रेजी शराब के साथ एक महिला को गिरफ्तार कर लिया।

मालूम हो कि महिला के गिरफ्तारी को लेकर ग्रामीण उग्र होकर गिरफ्तार महिला को चुराने की कोशिश करने लगे। जिससे तनाव बढ़ गया। उपद्रवियों ने पुलिस की गाड़ियों को भी नुकसान पहुंचाया। यह कहे कि किसी तरह पुलिस के लोग वहां से भागकर अपनी जान बचाई।

बिक्रमगंज के एसडीपीओ राज कुमार ने बताया कि मामले में जहां 40 नामजद के अलावे 250 अज्ञात लोगों पर केस दर्ज किया गया है। आरोपी कितने भी पहुंच वाले क्यों न हो? उन पर कार्रवाई होगी। गौरतलब है कि रोहतास जिला में शराब माफियाओं का आतंक काफी बढ़ गया है।

आए दिन शराब बिक्री के विरोध करने पर माफिया ग्रामीणों की पिटाई भी करते हैं। इतना ही नहीं जिस तरह से शराब कारोबारियों का मनोबल बढ़ा है की अब वह पुलिस पर भी हमला करने लगे हैं। डीजीपी के लाख निर्देशों के बाद भी रोहतास जिला में प्रतिदिन शराब की बड़ी खेप पकड़ी जा रही है।

इतना ही नहीं शराब बनाने की फैक्ट्रियां का भी उद्भेदन यहां हो रहा है। इससे स्पष्ट है कि रोहतास जिला में शराब बिकता ही नहीं है, बल्कि यहां शराब बनाई भी जा रही है।जो सीएम नीतीश कुमार के महत्वाकांक्षी ‘शराबबंदी कानून’ की धज्जियां उड़ाने के लिए काफी हैं।