लोकसभा चुनाव में पहला मौका है जब राजद अपना खाता भी नहीं खोल सकी। करारी हार के बाद समीक्षा और मंथन का दौर जारी है। हार के कारण ढूंढे जा रहे हैं। कल राजद की समीक्षा बैठक के बाद यह निर्णय सामने आया है कि राजद ने हार के कारण ढूंढने के लिए तीन सदस्यीय कमेटी बनायी है जिसकी अध्यक्षता जगदानंद सिंह कर रहे हैं। राबड़ी आवास पर राजद की हुई समीक्षा बैठक के बाद जगदानंद सिंह ने मीडिया को बताया कि राजद के सभी नेताओं ने एक सुर में तेजस्‍वी यादव के नेतृत्‍व को सराहा. कहा कि तेजस्‍वी के नेतृत्‍व पर कोई सवाल नहीं है.उन्‍होंने युवाओं को जागरूक करने का काम किया, लेकिन रिजल्‍ट ने संदेह पैदा कर दिया.

उन्‍होंने कहा कि इसके लिए राजद ने कमेटी का गठन किया है. जल्‍द ही कमेटी में शामिल लोग माइक्रो लेवल पर लोगों से मिलेंगे और अपनी रिपोर्ट पार्टी को सौंपेंगी. जगदानंद सिंह को कमेटी का अध्‍यक्ष बनाया गया है, जबकि अब्‍दुल बारी सिद्दीकी और आलोक मेहता को सदस्‍य के रूप में रखा गया है. उन्‍होंने जहानाबाद और तेजप्रताप मामले पर कहा कि यह हमारा अंदरूनी मामला है. हम लोग इसे देखेंगे. उन्‍होंने कहा कि हमारे लिए एक सीट नहीं, पूरे बिहार का मामला है.