नई दिल्ली:मध्यप्रदेश के उर्तन नार्थ कोयला ब्लॉक मामले में उद्योगपति नवीन जिंदल की मुश्किलें आने वाले समय मे बढ़ सकती है। राउज एवेन्यू कोर्ट ने नवीन जिंदल सहित अन्य के खिलाफ आरोप तय कर दिए है। कोर्ट 25 जुलाई को यह तय करेगा कि किन-किन धाराओं के तहत जिंदल सहित अन्य पर मुकदमा चलेगा। सीबीआई ने अपनी चार्जशीट में नवीन जिंदल सहित सभी छह आरोपियों पर आपराधिक साजिश और धोखाधड़ी के आरोप लगाए है।

सीबीआई ने कहा है कि अब तक की जांच में जेएसपीएल के अधिकारियों द्वारा 2007 में गलत तथ्य पेश कर कोयला मंत्रालय को गुमराह करने और गलत लाभ हासिल करने की जानकारी सामने आई है। बतादें कि इससे पहले झारखंड में अमरकोंडा मुर्गादंगल कोल ब्लॉक मामले में जिंदल सहित अन्य 14 के खिलाफ आरोप तय हो चुका है।

प्रवर्तन निदेशालय की ओर से पेश सरकारी वकील नवीन मट्टा की माने तो झारखंड के यह कोल ब्लॉक हासिल करने के लिए नवीन जिंदल की कंपनी को कंपनी जिंदल स्टील एंड पावर लिमिटेड ने स्क्रीनिंग कमेटी को दो करोड़ रुपए की रिश्वत दी थी।

बतादें कि इस मामले में कोर्ट ने अप्रैल 2016 के दौरान नवीन जिंदल और पूर्व कोयला राज्य मंत्री दसारी नारायण राव के खिलाफ आरोप तय करने का आदेश दिया था। इसी बीच दसारी नारायण राव की मौत हो चुकी है।

इसके अलावा इस मामले में उद्योगपति नवीन जिंदल, झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री मधु कोड़ा, पूर्व कोयला सचिव एचसी गुप्ता और इसके अलावे जिंदल स्टील कंपनी के पूर्व सलाहकार के अलावा एस्सार पावर लिमिटेड के डायरेक्टर, मुंबई की कंपनी केई इंटरनेशनल के अधिकारी, गुरुग्राम की कंपनी ग्रीन इंफ्रास्ट्रक्चर के वरिष्ठ अधिकारी पर आपराधिक षडयंत्र, धोखाधड़ी आदि से संबंधित धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज है।